Monday, 25 September 2017

महारावल बने शाहिद कपूर

दीपिका पादुकोण के पद्मावती के किरदार में फिल्म पद्मावती के पोस्टर नवरात्री के पहले दिन रिलीज़ किये गए थे।  आज महारानी पद्मावती के पति महारावल रतन सिंह के किरदार में शाहिद कपूर के पोस्टर रिलीज़ किये गए।  इन पोस्टरों में राजसी ठाठ बाट के साथ शाहिद कपूर बढ़ी और कढ़ी दाढ़ी में शानदार लग रहे हैं।  सूत्र बताते हैं कि फिल्म में शाहिद कपूर के काफी दृश्य आवक्ष नग्न हैं।  ज़ाहिर है कि संजय लीला भंसाली अपने हीरो की पुष्ट बॉडी दिखाने का लोभ छोड़ नहीं पाते।  खुद को फिट रखने में शाहिद कपूर बेजोड़ हैं।  वह नियमित जिम जाते हैं और वर्कआउट करते हैं।  इस फिल्म के लिए उन्होंने काफी पसीना बहाया है।  पोस्टरों से शाहिद कपूर की मेहनत दिखाई देती है।  पद्मावती १ दिसंबर को रिलीज़ होने जा रही है।  

Sunday, 24 September 2017

रोहिणी अय्यर​ को सबसे प्रभावशाली मीडिया उद्यमी के लिए स्टारडस्ट अचीवर्स पुरस्कार


लाइव गेम शो आंटी बोली लगाओ बोली


सोनी मैक्स का अपने दर्शकों को दशहरा पर बाहुबली २ तोहफा !

हिंदी फिल्म दर्शकों के लिए बढ़िया खबर।  जिन सिने प्रेमियों ने बाहुबली सीरीज की दूसरी फिल्म बाहुबली २: द कन्क्लूजन नहीं देखी है, उन दर्शकों के लिए सोनी मैक्स की तरफ से दशहरा उपहार।  ०८ अक्टूबर को सोनी मैक्स पर दोपहर १ बजे से दुनिया में सबसे ज़्यादा बिज़नेस करने वाली पहली भारतीय फिल्म बाहुबली : द कन्क्लूजन दिखाई जाएगी।  इस फिल्म के द्वारा बाहुबली द बिगिनिंग के खात्मे के बाद से बाहुबली को कटप्पा ने क्यों मारा के जवाब का इंतज़ार कर रहे दर्शकों  इस सवाल का फर्स्ट हैंड जवाब भी मिल जायेगा।  निर्देशक एस एस राजामौली की प्राचीन महिष्मति राज्य के तख़्त के लिए संघर्ष की इस ऐतिहासिक शानदार ड्रामा फिल्म में प्रभाष ने राजा अमरेंद्र बाहुबली की भूमिका की है ।  इस फिल्म में राणा डग्गुबाती ने भल्लालदेवा, अनुष्का शेट्टी ने युवरानी देवसेना, राम्या कृष्णन ने राजमाता शिवगामी, सत्यराज ने कटप्पा, नासर ने बिज्जलदेवा, तमन्ना भाटिया ने अवंतिका की भूमिकाएं की हैं ।  फिल्म का संगीत राजामौली के कजिन एम एम किरवानी ने दिया है।  कुल १७१ मिनट लम्बाई वाली फिल्म की एडिटिंग कोटागिरी वेंकटेश्वरा राव ने की है।  तेलुगु और तमिल में बनाई गई और हिंदी में डब बाहुबली द कन्क्लूजन के निर्माण में २५० करोड़ खर्च हुए थे।  यह फिल्म अब तक १७२५ करोड़ का ग्रॉस कर चुकी है।

कबाली रजनीकांत की बेटी धंशिका

साई धंशिका ख़ास तौर पर तमिल फिल्मों की नायिका हैं।  जयम रवि की तमिल फिल्म परमाई से उनके करियर की शुरुआत हुई थी।  धंशिका की अब तक ९ फ़िल्में रिलीज़ हो चुकी हैं।  उनकी इस साल ७ फ़िल्में रिलीज़ होनी हैं।  फिल्म कबाली में धंशिका ने रजनीकांत की बेटी योगी का किरदार किया था।  उन्हें एक्शन करने में महारत हासिल हैं।  उनकी ज़्यादातर फ़िल्में एक्शन/थ्रिलर ही रही हैं।  बिजॉय नम्बिआर की मलयालम फिल्म सोलो में वह दुलकर सलमान की नायिका हैं।  यह रोमांटिक थ्रिलर फिल्म है।

नवरात्री पर टीवी सितारों का स्टाइल- मंत्र

नवरात्री बोलें तो डांडिया-गरबा का त्यौहार है।  भारी जेवर और कपडे पहनना महिलाओं का शौक रहता है। आदमी भी कोई पीछे नहीं।  वह भी रंग-बिरंगे परिधान पहन कर डांडिया करने को बेताब रहता है।  इस मायने में टीवी एक्टर भी पीछे नहीं।  हर टीवी सितारा अलग अलग परिधान पहनना पसंद करता है।  रंगों की भी कोई कमी नहीं।  पसंद अपनी अपनी।  अब मृणल जैन को ही लीजिये।  उन्हें केडियू और कफनी पहनना स्टाइलिश और दूसरों से अलग लगता है।  इसमें भिन्न दमकते रंग मिल जाते हैं। मृणल से अलग पसंद है शरद मल्होत्रा की।  वह काढ़ा हुआ कुरता पहनना पसंद करते हैं।  उन्हें ख़ास तौर पर लाल और भूरे रंग के चमकदार काढ़े कुर्ते स्टाइलिश लगते हैं।  मोहम्मद नाज़िम को पठानी सूट पसंद है।  वह नेवी ब्लू कलर का पठानी सूट पहनना पसंद करते हैं।  लेकिन, इससे पहले बालों में जेल लगना नहीं भूलेंगे।  अदा खान
पारम्परिक लहंगा-चोली पहनना चाहेंगी लेकिन, यह  रंगीन मनके टंके हुए, मिरर वर्क या काढ़े हुए या शंखों वाले होने चाहिए।   शशांक व्यास के अनुसार रंगबिरंगी पोशाकें आपके व्यक्तित्व को निखारती हैं।  मैं तो नवरात्री में चमदार रंगीन पोशाकें पहनना चाहूंगा।  जहाँ तक फैशन की बात है, मैं किसी रूल बुक से चलने के बजाय अपनी पसंद के अनुसार चलना चाहूंगा। शक्ति अरोरा को नवरात्री में गरबा धोती-कुरता पहनना क्यों पसंद है ? यही एक समय है, जिसमे हम पारपरिक लुक वाले कपडे पहन सकते हैं। जैस्मिन भसीन आज की पसंद के अनुरूप रंगबिरंगे परिधान पहनना पसंद करेंगी।  लेकिन, भारी और चमकीली ऑक्सीडाइजड ज्वेलरी के नथनी ज़रूर पहनना चाहेंगी।  तो नवरात्री उत्सव में शामिल होने वाली युवा मंडली ने किस प्रकार के परिधान और ज्वेलरी पहनी है ? क्या इन टीवी सितारों की पसंद से उनकी पसंद मेल खाती है ? 



राष्ट्रीय सहारा २४ सितम्बर









ऑस्ट्रेलिया से आई एक इंडियन डांसर !

तेरे बिना और बंटाई के बाद, फिल्म हसीना पारकर का तीसरा गाना पिया आ गर्मागर्म गीत है।  इस गीत पर भारतीय- ऑस्ट्रेलियाई सुंदरी सराह अंजुलि थिरक रही हैं।  उनके हावभाव काफी उत्तेजक और गर्म हैं। यह गीत कदमों को थिरकाने वाला है।  माना जा रहा है कि यह गीत इस साल के सबसे पसंदीदा डांस नम्बरों मे शुमार होगा।  वह कुछ अंतर्राष्ट्रीय प्रोजेक्ट में काम कर चुकी हैं।  लेकिन, हसीना पारकर के इस सिज़लिंग डांस नंबर से उनका बॉलीवुड डेब्यू हो रहा है।  सूत्र बताते हैं कि बॉलीवुड में सारा को लेकर चर्चा गर्म है।  संभव है कि २२ सितम्बर को हसीना पारकर रिलीज़ होने के बाद अगर सारा का सिद्धांत कपूर के साथ किया गया डांस नंबर चर्चित हो गया तो सारा की बॉलीवुड में पौबारह हो जाएगी।  

डॉक्टरों के अवैध ड्रग एक्सपेरिमेंट पर 'उम्मीद'

उम्मीद के डायरेक्टर रजत एस मुख़र्जी मलाल है कि सेंसर बोर्ड सच को दिखाना नहीं चाहता।  रजत का यह मलाल इस वजह से है कि उनकी फिल्म उम्मीद को यू/ए सर्टिफिकेट भी नहीं दिया गया।  उम्मीद डॉक्टरी पेशे पर है।  इस पेशे में अनैतिकता पर है।  उम्मीद बताती है कि कैसे डॉक्टर अपने मरीजों पर गलत तरीके से दवाओं का परीक्षण करते हैं।  रजत मुख़र्जी कहते हैं, "हमें सेंसर की तरफ से पत्र आया है।  लेकिन, यू/ए सर्टिफिकेट न दिए जाने का कारण नहीं दिया है।  हमसे कुछ ज़रूरी कट्स लगाने के लिए कहा गया है।" फिल्म उद्योग से प्रसून जोशी से काफी उम्मीदें थी।  अगर रजत की नाउम्मीदी को देखें तो शुरुआत हो चुकी है। कहते हैं रजत, "अब कोई चारा नहीं है। हमें प्रसून जोशी की तैनाती से काफी उम्मीदें थी।" उम्मीद का विषय उम्दा लगता है।  फिल्म में बताया गया है कि हमारे देश में हर साल ४८ हजार बच्चे लकवाग्रस्त हो जाते हैं, साढ़े ग्यारह हजार बच्चे मर जाते हैं।  हमारे देश में अनैतिक रूप से दवाओं के परीक्षण की घटनाएँ बढती जा रही हैं। विदेशी दवा कंपनियां में भारत में अपनी दवाओं का परीक्षण डॉक्टरों के माध्यम से करवाते हैं।  रजत मुख़र्जी आगे बताते हैं, "हमारी फिल्म का विषय रियल लाइफ घटना पर आधारित है।  हम ऎसी परेशानियों को जानते-समझते थे।  इसके बावजूद हमने फिल्म बनाने का फैसला किया। हमने सेंसर बोर्ड से अपने निर्णय पर पुनर्विचार करने का अनुरोध किया है।  फिलहाल, इस फिल्म की रिलीज़ अगली तारिख तक टाल दी गई है।  उम्मीद के सितारों में पल्लवी दास, मोहन कपूर, यतिन कार्येकर, अंजलि पाटिल, मिलिंद गुणाजी, दलीप ताहिल, फ्रेडी दारूवाला, शिशिर मिश्र, हर्ष छाया और अचिंत कौर के नाम उल्लेखनीय है।  

'साहो' के एक्शन के लिए बजट २५ करोड़

बाहुबली फिल्मों के बाद, फिल्म के नायक प्रभाष का नाम हिंदी दर्शकों के लिए अपरिचित नहीं रह गया है। दर्शकों को प्रभाष की अगली फिल्म का इंतज़ार है। वह प्रभाष की फिल्म में कुछ नया देखने की अपेक्षा भी करता है। ख़ास तौर पर एक्शन दृश्य।  प्रभाष की अगली फिल्म साहो का ऐलान हो चूका है।  फिल्म में उनकी नायिका के बतौर श्रद्धा कपूर को लिया गया हैं।  श्रद्धा कपूर को हिंदी दर्शक काफी पसंद करते हैं। वह साहो के साथ एक्शन की रोमांटिक जोड़ी बना सकती हैं।  यह तो वक़्त बतायेगा की प्रभाष-श्रद्धा कपूर जोड़ी पूरे फिल्म उद्योग में कैसा रंग जमाती है! फिलहाल, प्रभाष एक्शन पर ध्यान दे रहे हैं।  साहो में हैरतंगेज़ एक्शन होंगे।  इसके लिए हॉलीवुड के स्टंट कोरियोग्राफर केनी बेट्स को फिल्म से जोड़ा गया है। केनी ट्रांसफार्मर्स फिल्मों के अलावा मिस्टर एंड मिसेज स्मिथ, पर्ल हारबर, रश ऑवर ३, आदि फिल्मों के स्टंट कोरियोग्राफ कर चुके हैं। इस एक्शन के लिए २५ करोड़ का बजट रखा गया है। साहू से नील नितिन मुकेश का तेलुगु फिल्म डेब्यू हो रहा है।  वह फिल्म में मुख्य विलेन का किरदार करेंगे।  युवा निर्देशक सुजीत द्वारा निर्देशित साहो का कुल बजट १५० करोड़ है।  

रांची की गुड़िया, क्या बन पायेगी शकीरा !

रांची डायरी छोटे शहर रांची की एक लड़की की विनोदपूर्ण कहानी है।  गुड़िया, अपने दोस्तों के साथ चाहती है शकीरा की तरह पॉप गायिका बनना। उसकी यह चाहत उसे स्थानीय माफिया ठाकुर भैया की निगाह में चढ़ा देती है।  वह अपने गलत कामों में गुड़िया का उपयोग करना चाहता है।  इसके लिए वह गुड़िया के बचपन के दोस्त मनीष के साथ उसे भगा देता है।  इसके साथ ही गुड़िया के साथ और आसपास कई घटनाएं घटती हैं और गुड़िया की ज़िन्दगी में हलचल मचा देती हैं।  इन सब झमेलों से छुटकारा पाने के लिए गुड़िया और उसके दोस्त बैंक डकैती डालने की योजना बनाते हैं।  अब यह बात दीगर है कि डाका उन्हें शहर में उपहास का पात्र बना देता है।  कोकोनट पिक्चर्स की इस फिल्म के निर्माता अनुपम खेर के साथ रश्मिन मजीठिया हैं। निर्देशक सात्विक मोहंती की इस फिल्म में गुड़िया की भूमिका में सौंदर्या शर्मा ने की है और बचपन के दोस्त मनीष हिमांश कोहली बने हैं। दूसरी भूमिकाओं में ताहा शाह, हैरी बाला, प्रदीप सिंह, पीतोबश के अलावा सतीश कौशिक, अनुपम खेर और जिमी शेरगिल के नाम उल्लेखनीय हैं।  यह फिल्म  १३ अक्टूबर को रिलीज़ होगी।

जब 'हसीना' श्रद्धा कपूर से डर गए अपूर्व के दोस्त !

हिंदी फिल्मों में अभी तक रिया, आरोही, वसुधा, शिया, विनी, अर्शिया, ऐशा और तारा जैसे नाज़ुक किरदार कर चुकी अभिनेत्री श्रद्धा कपूर हसीना बनने के बावजूद भयावने रूप में है।  निर्देशक अपूर्व लखिया की फिल्म हसीना पारकर में श्रद्धा कपूर कुख्यात अंडरवर्ल्ड डॉन और १९९३ के बम धमाकों का मुजरिम दाऊद इब्राहिम की बहन हसीना पारकर की भूमिका कर रही हैं। इब्राहिम पारकर से प्रेम करने, उससे निकाह पढ़ाने और उसके बच्चों की माँ बनने के बाद हसीना का व्यक्तित्व कैसे खतरनाक मोड़ पर जा पहुंचता है, उसे परदे पर उकेरना आसान नहीं था।  उस पर इस चरित्र के लिए श्रद्धा कपूर का चुनाव काफी अपरिपक्व फैसला लगता था।  लेकिन, श्रद्धा कपूर ने अपने किरदार के लिए भरपूर मेहनत की।  उन्होंने अपना वजन बढ़ाया, प्रोस्थेटिक मेकअप के सहारे चेहरे को फुलाया। आवाज़ को भारी बनाने के लिए वॉयस मॉडुलेशन की प्रक्रिया से गुजरी। वह इस किरदार में घुसने के लिए अपना ज़्यादा समय अकेले में गुजारती थी। हसीना पारकर के सेट पर मौजूद लोग एक दिलचस्प किस्सा सुनाते हैं।  अपूर्व लाखिया के एक दोस्त उनसे मिलने आये। अपूर्व ने उनसे श्रद्धा कपूर का परिचय कराया। आम तौर पर श्रद्धा कपूर सबसे बड़े प्रेम से मिलती है। लेकिन, अपूर्व के दोस्त के सामने उन्होंने अपना हसीना पारकर वाला अंदाज़ नहीं छोड़ा।  नतीजतन, उनका यह लहज़ा देख कर अपूर्व के दोस्त कुछ भयभीत हो गए। अब यह बात दीगर है कि उन्हें श्रद्धा कपूर का प्रशंसक भी बना दिया।  हसीना पारकर २२ सितम्बर को रिलीज़ हो रही है।  

लखनऊ में अजय देवगन की 'रेड'

अस्सी के दशक में पड़े, पूरे देश में चर्चित एक हाई प्रोफाइल इनकम टैक्स छापे पर आधारित अजय देवगन की फिल्म रेड की शूटिंग आज से लखनऊ मे शुरू हो गई। यह शूटिंग साठ दिनों तक नॉन स्टॉप चलेगी। फिल्म में अजय देवगन आयकर अधिकारी की भूमिका करेंगे। इस फिल्म का निर्देशन नो वन किल्ड जेसिका और आमिर के निर्देशक राजकुमार गुप्ता करेंगे। इस फिल्म में अजय देवगन का साथ उनकी बादशाहों की साथी इलेअना डिक्रुज़ देंगी। फिल्म का संगीत अमित त्रिवेदी ने दिया है। गीतकार अमिताभ भट्टाचार्य हैं।

सैफ अली खान का शेफ लुक

सभी जानते हैं कि राजा कृष्णा मेनन की फिल्म शेफ में सैफ अली खान एक शेफ का किरदार कर रहे हैं।  यह शेफ खुशियाँ बांटने में विश्वास करने वाला है। इसके हाथ में जादू है।  वह जो कुछ बनाता है, लोगों के मुंह में देख कर ही पानी आ जाता है।  सैफ अली खान कमर्शियल फिल्मों के रोमांस और एक्शन करने वाले हीरो हैं।  यह फिल्म उनकी अब तक की इमेज से काफी अलग है। फिल्म में वह एक पिता भी बने हैं।  इसलिए, फिल्म के लिए उनका लुक भी बिलकुल अलग होना चाहिए।  इसे भांपते हुए ही राजा कृष्ण मेनन ने उन्हें कैजुअल लुक दिया है।  फिल्म की डिज़ाइनर रोशन कालरा ने सैफ के लिए शहरी पिता वाले कपडे डिजाईन किये हैं, ताकि वह इनमे अपने बेटे के साथ आसानी से बाहर भी जा सके।  राजा कहते हैं, "हमने दिनप्रतिदिन के लिहाज़ से कपडे तैयार किये हैं।  ज्यादातर  शॉर्ट्स या फिर शर्ट्स और जीन्स का इस्तेमाल किया गया है। आप देखिएगा सैफ आजकल के युवा पिताओं जैसे लगेंगे।" 

प्रथम विश्व युद्ध के सैनिक दिलजीत दोसांझ

पंजाबी फिल्मों के सुपर स्टार दिलजीत दोसांझ प्रथम विश्व युद्ध पर एक फिल्म में नायक की भूमिका करेंगे।  यह फिल्म पंजाबी भाषा में बनाई जाएगी।  इस फिल्म का निर्देशन नॉटी जट्स, गोरेया नू दफा करो, दीदारियाँ  और बम्बूकाट जैसी हिट पंजाबी फिल्मों के निर्देशक पंकज बत्रा करेंगे।  पंकज बत्रा की फिल्मों की खासियत होती है उनकी फिल्मों के हीरो।  पंकज की ज़्यादा फिल्मों के नायक पंजाबी गायक होते हैं।  जुलाई में उनकी मराठी फिल्म सैराट की पंजाबी रीमेक फिल्म चन्ना मेरेया रिलीज़ हुई थी।  इस फिल्म से गायक निंजा का डेब्यू हुआ था।  पंकज बत्रा ने एक हिंदी फिल्म आई लव देसी का निर्देशन भी किया था।  लेकिन, यह फिल्म बुरी तरह से फ्लॉप हुई थी।  दिलजीत दोसांझ की पहली हिंदी फिल्म शाहिद कपूर, करीना कपूर और आलिया भट्ट के साथ उड़ता पंजाब थी।  जहाँ तक रियल लाइफ फ़िल्में करने का सवाल है, दिलजीत दोसांझ फिल्म पंजाब १९८४ कर चुके हैं।  इस फिल्म में किरण खेर के साथ उनके अभिनय को बहुत सराहा गया था।

हिंदी फिल्मों में रावण नहीं दशानन !

इस साल के अंत तक रिलीज़ होने वाली कुछ फिल्मों पर नज़र डालते हैं।  सीक्रेट सुपरस्टार, मुआवज़ा ज़मीं का पैसा, रांची डायरीज, आईएसआईएस: एनिमीज ऑफ़ ह्यूमैनिटी और २०१६ द एन्ड उल्लेखनीय हैं। यह फ़िल्में अलग पृष्ठभूमि पर समस्याओं के साथ हैं।  इन सभी फिल्मों में बुराई का रावण मौजूद है।  बेशक, इसका चेहरा बदला हुआ है।  सीक्रेट सुपरस्टार की एक मुस्लिम लड़की संगीत में रूचि रखती है।  आड़े आते हैं कट्टरवादी।  कैसे मुक़ाबला कर पाती है इंसु (ज़ायरा शेख) | रांची डायरीज एक छोटे शहर रांची की गुड़िया की है, जो शकीरा बनाना चाहती है।  उसके इस लक्ष्य का फायदा उठाना चाहता है एक स्थानीय गुंडा।  क्या गुड़िया सफल होती है? मुआवज़ा ज़मीन का पैसा किसानों से जुडी समस्या पर है।  सरकार किसानों की ज़मीन ले लेती है, लेकिन उसको मुआवज़े के लिए नौकरशाही और बिचौलियों के शोषण का शिकार होना पड़ता है।  आईएसआईएस आतंकवादी संगठन पर फिल्म होने के कारण आतंकवाद को निशाना बनाती है। इन सभी फिल्मों में बुराई का रावण है।  सीक्रेट सुपरस्टार में कट्टरवादी हैं, रांची डायरीज में स्थानीय गुंडा है, मुआवज़ा में  नौकरशाही और बिचौलिए हैं, एनिमीज ऑफ़ ह्यूमैनिटी में आतंकवादी संगठन आईएसआईएस, रावण के ही रूप हैं।  आम आदमी, एक व्यक्ति या  व्यवस्था को इनसे जूझना है।  
भारतीय फिल्मों की शुरुआत राजा हरिश्चंद्र से हुई थी, जो सदा सच बोलते थे। धार्मिक किरदार मूक फिल्मों के लिहाज़ से कहानी समझाने वाले और अपीलिंग थे। यही कारण है कि इसके बाद ज़्यादा फ़िल्में धार्मिक या फिर ऐतिहासिक घटनाक्रमों पर बनाई गई।  पहली बोलती फिल्म आलम आरा एक राजकुमार के जिप्सी गर्ल से रोमांस पर फिल्म थी।  इस फिल्म में भी बुराई के रावण की प्रतीक राजा की पत्नी दिलबहार थी। चूंकि, भारत के जनमानस में धार्मिक और पौराणिक चरित्रों की अमिट छवि बनी है, रामायण और महाभारत की कहानियां हर कोई जानता है।  इसलिये, तमाम हिंदी फिल्मों में बुराई के प्रतीक रावण से सच्चाई और अच्छाई का राम  संघर्ष करता रहता था ।  
गाँव की गरीबी और ज़मींदार के शोषण का रावण 
हिंदी फिल्मों का लम्बा इतिहास ग्रामीण पृष्ठभूमि वाली फिल्मों का रहा है।  फिल्म चाहे महबूब खान की रोटी या मदर इंडिया हो या बिमल रॉय की दो बीघा ज़मीन या फिर त्रिलोक जेटली की फिल्म गोदान, गरीबी और  ज़मींदार के शोषण का रावण हर फिल्म में था।  ज़मींदार किसान को क़र्ज़ देता, भारी सूद वसूलता, फिर ज़मीन ही हड़प लेता।  बेचारा किसान और  उसका परिवार बेघर हो जाता।  इन तमाम फिल्मों में रावण जीतता रहा, किसान का राम हारता रहा।  सिर्फ मदर इंडिया की औरत का संघर्ष  ही इस रावण को परास्त कर पाता था। रावण स्त्री लोलुप था।  हिंदी फिल्मों के रावण का  चरित्र भी वैसा ही था।  मिर्च मसाला, निशांत और अंकुर में इसका चित्रण हुआ था।  अलबत्ता श्याम बेनेगल की फिल्म अंकुर के क्लाइमेक्स में ज़मींदार के घर की खिड़की को बजाता हुआ पत्थर निशांत में ग्रामीणों के विरोध में बदल जाता है।  
वेश बदल कर  शहर आया 
सत्तर के दशक में शोषण और अन्याय का प्रतीक रावण गाँव से शहर आ जाता है।  लेकिन, उसका रवैया वही शोषक वाला रहता है।  अमिताभ बच्चन से लेकर सनी देओल और अनिल कपूर तक तमाम बॉलीवुड अभिनेताओं की फ़िल्में शहर के किसी गुंडे या उसके गिरोह या डॉन या अंडरवर्ल्ड की ज़्यादतियों का चित्रण करने के बाद अंत में नायक को जीतता दिखाती थी।  इन एक्शन फिल्मों का कथित राम हिंसा का हथियार पकड़ कर ही रावण को परास्त कर पाता  था।  ज़ंजीर में अमिताभ बच्चन का एंग्री यंग मैन आज का राम था और अजित का तेजा आधुनिक रावण।  यह राम और रावण युद्ध कमोबेश इसी उसी रूप में हर अगली हिंदी फिल्म में नज़र आता रहा।  
फिल्मों की सीतायें भी रावण के खिलाफ 
अस्सी के दशक से हिंदी फिल्मों के रावण का चेहरा बदलने लगा, इसके साथ ही राम का चेहरा भी। अभी तक हिंदी फिल्मों में रावण का मुक़ाबला करने में अकेला राम सामने आता था।  अब राम का युद्ध धर्मयुद्ध बन गया था।  सीता ने भी राम का रूप धर लिया था।  मिर्च मसाला, लज्जा, दामिनी, डोर, फिर मिलेंगे, मातृभूमि, गुलाब गैंग, आदि फ़िल्में तमाम उदाहरणों में कुछ एक हैं, जिनमे फिल्म की नायिकाएं अपने रावणों को ख़त्म करने के लिए कमर कस रही थी। मिर्च मसाला में मसाला बनाने महिलाएं लम्पट जमींदार का खात्मा करने के लिए एकजुट हो जाती थी।  लज्जा की चार औरते अपने मर्दों की ज़्यादतियों के खिलाफ उठ खडी  होती हैं।  दामिनी की नायिका बलात्कार की शिकार अपने घर की नौकरानी को न्याय दिलाने के लिए ससुराल और पति के खिलाफ आवाज़ उठाती है।  अलबत्ता, इस काम में उसका साथ एक शराबी वकील सफलतापूर्वक देता है। डोर का कथानक पुराना लग सकता है।  लेकिन, इसकी विधवा नायिका का अपनी एक मित्र के साथ  गांव समाज की बुराइयों से लड़ने का  जज़्बा किसी को भी प्रेरित कर सकता है।  
फिर मिलेंगे की कहानी एड्स से ग्रस्त लोगों के सामाजिक उपेक्षा के बीच अपना मुकाम बनाने की है। गुलाब गैंग की महिलाएं अपने गाँव की मर्दों के ज़्यादतियों के खिलाफ लड़ने वाली महिलाओं को अपने लट्ठ के बल पर इन्साफ दिलाती है।  मर्दानी में पुलिस ऑफिसर शिवानी शिवाजी रॉय नाबालिग लड़कियों को बेचने वाले रावणों का खात्मा करती है। 
भ्रष्टाचार और आतंकवाद का रावण 
हिंदी फिल्मों में रावण के कई रूप हैं।  समाज में भ्रष्टाचार, आतंकवाद, माफिया-डॉन नेता नेक्सस, महंगाई, चोरबाज़ारी, आदि ढेरों बुराइयों के रावण दसों सिरों के साथ मौजूद हैं। सिस्टम में भ्रष्टाचार पर ढेरों फ़िल्में बनाई गई हैं।  इन फिल्मों में  अर्द्ध सत्य, मेरी आवाज़ सुनो, शूल, जाने भी दो यारों, गंगाजल, रण, सत्याग्रह, रंग दे बसंती, आदि उल्लेखनीय हैं।  इन फिल्मों का नायक प्रशासन और राजनीति में भ्रष्टाचार और गठजोड़  का खात्मा करता है।  सलमान खान की जय हो और अक्षय खन्ना की  गली गली में चोर है में भ्रष्टाचार के खिलाफ आम जनता को जगाया जाता है।  उड़ता पंजाब,  फैशन, देव डी, शैतान, पंख, दम मारो दम, गो गोवा गॉन, आदि फिल्मों में नशे के रावण से लड़ते नायक-नायिका थे, जो हारते भी थे और जीतते भी।  पर उनका संघर्ष जारी रहता था।  ब्लैक फ्राइडे, अ वेडनेसडे, दिल से, मुंबई मेरी जान, रोजा, आमिर, सरफ़रोश, न्यू यॉर्क,  नीरजा, द्रोह  काल, बेबी, ज़मीन, दस, हॉलिडे अ सोल्जर नेवर ऑफ ड्यूटी, आदि फ़िल्में उन बहुत सी फिल्मों का उदाहरण मात्रा हैं, जीनके  नायक-नायिका आतंकवाद से जूझ रहे थे।  

Friday, 22 September 2017

मैनफ़ोर्स के पीछे सनी लियॉन का फ़ोर्स !

सनी लियॉन ने एक बार फिर सनसनी फैला दी है। यह दूसरा मौक़ा है, जब फिल्मों में अपने आइटम नंबर से सनसनी पैदा करने वाली, फिल्म को सफलता की गारंटी देने वाली सनी लियॉन का कंडोम एड सनसनी फैला रहा है। खान से लेकर वापसी करने वाले संजय दत्त को तक सनी लियॉन की ट्रिपि ट्रिपि सनसनी की ज़रुरत होती है। लेकिन, इस बार सनी लियॉन ने सनसनी के साथ विवाद भी पैदा कर दिया है।  वह गर्भनिरोधक कंडोम मैनफोर्स की वुमन (महिला) होते हुए भी मेन-फाॅर्स हैं।  इस कंपनी ने सूरत गुजरात की ऊंची बिल्डिंगों पर सनी लियॉन की सजावट से सजा एक विज्ञापन टांग रखा है।  इस विज्ञापन में गुजराती भाषा में टैग लाइन है- खेलो, प्यार से, इस नवरात्री।  इस विज्ञापन पर नज़र पडने के साथ ही लोगों में गुस्से की लहर पैदा हो गई।  केंद्रीय उपभोक्ता मंत्रालय के मंत्री रामविलास पासवान को सूरत के व्यापारियों ने पत्र लिख कर इस कंडोम ऐड को बैन करने के लिए कहा है।  लोगों के भारी विरोध को देखते हुए स्थानीय अधिकारियों ने इस होर्डिंग को उखाड़ फेंका है।  लेकिन, यह तय है कि सनी लियॉन ने अपनी वुमन फाॅर्स के ज़रिये मैनफोर्स की बिक्री को नई ताक़त दे ही दी है।
गर्भनिरोधक की ताक़त सनी और रणवीर 
गर्भनिरोधक को ताक़त देने वालों में बॉलीवुड से केवल सनी लियॉन ही नहीं। बॉलीवुड हमेशा से कंडोम की बिक्री को ताक़त देता आया है। अभी ही, सनी के विज्ञापन से काफी पहले रणवीर सिंह डुरेक्स के विज्ञापन में एक लड़की के घर के सामने कंडोम बटोरते दिखाई दे रहे थे।  रणवीर सिंह गोलियों की रासलीला-रामलीला के दौरान से ही इस एड से जुड़े हैं। रणवीर सिंह के विज्ञापन 'बोल्ड' माने जाते हैं । वह युवा मस्ती का प्रतीक भी हैं।  हो हल्ला चाहे जितना मचे, समाज पर ऐसे विज्ञापनों का असर होता है। जब से सनी लियॉन ने मैनफ़ोर्स कंडोम का विज्ञापन करना शुरू किया है, इस की निर्माता कंपनी ने तीन हजार करोड़ का बिज़नेस छू लिया है । हालाँकि, ऐसे एड करने वाले रणवीर सिंह और सनी लियॉन पहले हॉलीवुड अभिनेता-अभिनेत्री नहीं। 
'कामसूत्र' से गर्भनिरोधक के काम की पूजा बेदी 
यह विज्ञापन २६ साल पहले बना था।  मुंबई में बिकिनी पहन कर समुद्र के किनारे दौड़ लगाने वाली पूजा बेदी और संदोकान अभिनेता कबीर बेदी की बेटी पूजा बेदी ने १९९१ में वह सनसनी फैला दी थी, जिसे फैलाने का दावा आज के रणवीर सिंह कर रहे हैं।  कामसूत्र के विज्ञापन में पूजा बेदी उस समय के सुपर मॉडल मार्क रॉबिंसन के साथ शावर लेती दिखाई गई थी।  इस विज्ञापन फिल्म ने तहलका मचा दिया था ।  इसे महा बोल्ड बताते हुए उस समय के चैनलों ने इसे प्रसारित करने से मना कर दिया था। उस समय तक पूजा बेदी की पहली फिल्म 'विषकन्या' रिलीज़ नहीं हुई थी।  इस एड के बाद पूजा बेदी की सेक्सी और बोल्ड इमेज पुख्ता हो गई।  इसी एड को बाद में विवेक बाबजी और इन्दर सुलतान ने भी एक झरने के नीचे किया था।  इन दोनों विज्ञापनों ने तत्कालीन समाज को झकझोर दिया था । अब यह बात दीगर है कि इन दोनों विज्ञापनों की बदौलत कामसूत्र कंडोम गर्भनिरोधक का पर्याय बन गया है ।कामसूत्र के बाद मूड्स का एड भी अश्लील माना गया।  इस एड में अभिनेत्री पूजा बत्रा एक पुरुष मॉडल के साथ कामुक मुद्रा में मूड बनाती नज़र आ रही थी। ख़ास बात यह रही कि इन विवादित विज्ञापनों से गर्भनिरोधकों को स्थापित होने का मौक़ा ज़रूर मिला।  लेकिन, इनके एक्टर चाहे वह पूजा बेदी हो या पूजा बत्रा या स्टोर मार्क रॉबिंसन, फिल्मों में बुरी तरह  से फ्लॉप रहे।  
फ्री सेक्स की चाह में 
अब नजरिया बदल रहा है। यह एड बनाने का नजरिया है कि वह अपने उत्पाद के  लिए दर्शकों को किस प्रकार से आकर्षित करता है। १९७० के दशक में भारत सरकार का निरोध का विज्ञापन सुबकती औरत की फोटो के साथ गर्भ को रोकने का अच्छा और आसान उपाय निरोध कह कर प्रचार करता था। इस एड के साथ एड्स का डर भी घुसा रहता था। लेकिन, अब काफी कुछ बदल रहा है।  अगर किसी उत्पाद के लिए यूथ को टारगेट करना है तो कामुकता ज़रूरी हो जाती है। यही कारण है कि अब गर्भनिरोधक के विज्ञापनों में पोर्न फिल्मों की पूर्व अभिनेत्री सनी लियॉन  ज़रूरी हैं या लीला के साथ रासलीला करने वाले रणवीर सिंह।  डुरेक्स का विज्ञापन इसकी पुष्टि करता है कि युवा लड़कियां रणवीर सिंह में कामुकता देखती है। अब गर्भनिरोधक अनिच्छुक गर्भ रोकने या एड्स से बचने का जरिया ही नहीं रहे।  अब यह मौज मजे का ज़रिया बन गए हैं। भारतीय युवाओं में फ्री सेक्स की चाह ने कंडोम्स महत्वपूर्ण बना दिए हैं।  कंडोम्स बनाने वाली कंपनियों के निशाने में भी यही फ्री सेक्स है।  
मामला बाजार का
कभी भारत सरकार गर्भ निरोधक निरोध मुफ्त बांटा करती थी। हाल ही में यह आउटलेट्स से फ्री बांटे गए।  मगर अब गर्भ निरोधक केवल निरोधक नहीं रह गए । अब यह इंडस्ट्री सरकार के कल्याणकारी एजेंडे से हट कर फायदे की इंडस्ट्री बन गई है। एक अनुमान के अनुसार गर्भनिरोधक का कुल व्यापार ७७७ करोड़ से ज़्यादा का है। बाजार का सबसे ज़्यादा हिस्सा ३२.४ प्रतिशत मैनफोर्स का है।  दूसरे स्थान पर मूड्स (१२.७ प्रतिशत) और तीसरे स्थान पर स्कोर (१०.३ प्रतिशत) है। बाकी कंपनियां ४६ प्रतिशत के लिए ज़द्दोज़हद कर रही है। गर्भनिरोधक के मुख्य ब्रांड में मैनफोर्स फ्लेवरड डॉटेड कंडोम, कोहिनूर कंडोम, डुरेक्स एक्सटेंडेड प्लेज़र कंडोम्स, कामसूत्र फ्लेवरस कंडोम्स, मूड्स डॉटेड कंडोम्स, स्कोर कंडोम्स मल्टीप्ल वैरायटी कॉम्बो, कामसूत्र हनीमून पैक, स्कोर नॉटआउट कक्ष डिले कंडोम्स, डीलक्स निरोध (सरकारी), लाइफस्टाइल (स्किन), आदि नाम उल्लेखनीय हैं। यह सभी नाम युथ को टारगेट करने वाले हैं।  
रणवीर सिंह पहली पसंद नहीं थे 
अपने गर्भनिरोधक डुरेक्स के विज्ञापन के लिए कंपनी की पहली पसंद रणवीर सिंह नहीं थे।  कंपनी चाहती थी कि सीरियल किसर इमरान हाश्मी इस विज्ञापन को करें। इमरान हाश्मी के इंकार करने के बाद अर्जुन रामपाल से संपर्क किया गया।  अर्जुन ने भी यह विज्ञापन करने से मना कर दिया।  अंत में रणवीर सिंह से संपर्क साधा गया। अपनी फिल्मों से कैसानोवा इमेज बनाने वाले दिलफेंक आशिक़ रणवीर सिंह डुरेक्स के विज्ञापन के लिए परफेक्ट चॉइस साबित हुए। साफ़ है कि कंपनी का इरादा कंडोम से कामुकता को जोड़ने का था। 
ज़रुरत भी मज़बूरी भी 
गर्भनिरोधक कंपनियों का अपने विज्ञापनों में बॉलीवुड सेलिब्रिटी को लेना उनकी ज़रुरत भी है और मज़बूरी भी। डुरेक्स ने अपनी एक विज्ञापन फिल्म बिना किसी सेलिब्रिटी के बनाई थी, जिसमे एक लड़का सपने में लिफ्ट में एक कामुक लड़की से सेक्स करता है।  तभी उसकी नींद खुल जाती है।  वह भौंचक सा अपनी मेज की ड्रॉर खोलता है। उसके डुरेक्स सुरक्षित है। वह खिल उठता है।  लेकिन, यह विज्ञापन अश्लील माना गया और बैन कर दिया गया। रणवीर सिंह ने इस उत्पाद को अपनी इमेज के सहारे युवाओं के बीच चर्चित कर दिया। अब जहाँ सनी लियॉन कामुकता का प्रतीक है, वहीँ रणवीर सिंह मौज-मजा और मस्ती का प्रतीक है। यहीं कारण है कि अब कंडोम डर से छुटकारा पाने का उपाय नहीं, बल्कि युवा मौज-मज़ा का प्रतीक बन गए हैं।  मैनफोर्स का नवरात्री वाला एड इसी को ध्यान में रख कर बनाया गया है। वहीँ स्कोर को कभी बॉलीवुड सेलिब्रिटी की ज़रुरत नहीं महसूस हुई। उसकी कल्पनाशीलता से भरपूर एड फ़िल्में अनजाने मॉडल्स के साथ भी अपने उपभोक्ताओं को सन्देश पहुँचाने में कामयाब होती हैं।  
जहाँ कंडोम निर्माता कंपनियां बॉलीवुड एक्टर्स के सहारे अपने उत्पादों की बिक्री बढ़ाने की कोशिश में हैं।  वहीँ दूसरी ओर पारसी समुदाय की चिंता दूसरी है।  उनकी आबादी दिनों दिन कम होती जा रहे है। इसलिए, उनका एनजीओ जिओ पारसी बड़े बड़े विज्ञापनों के ज़रिये युवाओं से शादी करने और कम से कम 'आज' कंडोम का उपयोग न करने का अनुरोध करता है।  



आई एस बी लीडरशिप सम्मिट २०१७ में करण जौहर

कल से शुरू हो रहे आई एस बी लीडरशिप सम्मिट २०१७ में करण जौहर एंटरटेनमेंट सेक्टर का प्रतिनिधित्व करेंगे। फिल्म निर्माता और निर्देशक करण जौहर अवार्ड्स समारोहों और शोज में अपने मजाकिया अंदाज़ के लिए जाने जाते हैं। इसलिए कई महत्वपूर्ण इवेंट पर उन्हें प्रवक्ता के रूप में  आमंत्रित किया जाता है। आई एस बी लीडरशिप सम्मिट २०१७ में करण जौहर भविष्य में इंडियन सिनेमा में हो रहे बदलाव, चुनौतियों और अवसरों पर बातचीत  करेंगे। यह सम्मिट हैदराबाद में  आयोजित हो रही है। 

टाइगर ज़िंदा है का अबू धाबी शिड्यूल पूरा

यशराज फिल्म्स की मेगा बजट फिल्म टाइगर जिंदा है की अबू धाबी में शूटिंग लम्बे शिड्यूल के पूरा होने के साथ ही ख़त्म हो गयी।  इस शूट में सलमान खान, कटरीना कैफ और अंगद बेदी ने हिस्सा लिया।  इस दौरान फिल्म के कई सनसनीखेज एक्शन दृश्य फिल्माए गए।  इन एक्शन दृश्यों का कोआर्डिनेशन हॉलीवुड की डार्क नाइट और द डार्क नाइट राइजेज के एक्शन डायरेक्टर टॉम स्ट्रूथर्स ने किया।  फिल्म के निर्देशक अली अब्बास ज़फर ने इस शिड्यूल के बारे में बताया, "बहुत कठिन और थकाऊ होने के साथ साथ चुनौतीपूर्ण भी थी और मज़ेदार भी।  हमने ऑस्ट्रिया. मोरक्को और अबू धाबी की प्राचीन मगर अब तक अनदेखी जगहों पर की।  हमें यहाँ इंफ्रास्ट्रक्चर से लेकर सैन्य सहयोग भी मिला।  इससे हमें शूटिंग करने में कोई परेशानी नहीं हुई। टाइगर और ज़ोया (फिल्म के नायक नायिका सलमान खान और कटरीना कैफ के किरदार) की कहानी का यह हिस्सा लार्जर देन लाइफ है, इसलिए शूटिंग भी इसी के अनुरूप की गई है।" एक था टाइगर की इस सीक्वल के एक गीत की शूटिंग होना अभी बाकी है। इस फिल्म को क्रिसमस वीकेंड (२२ दिसंबर) में देखना, कल्पनातीत होगा। फिल्म के अबू धाबी शूट की समाप्ति के बाद फिल्म के निर्देशक अली अब्बास ज़फर के साथ सलमान खान और कटरीना कैफ रिलैक्स अंदाज़ में नज़र आ रहे हैं। 

गोलमाल अगेन का ट्रेलर जारी हुआ

गोलमाल सीरीज को शुरू हुए १२ साल हो रहे हैं।  इस सीरीज की चौथी फिल्म गोलमाल अगेन २० अक्टूबर को रिलीज़ होने जा रही है। सीरीज की पहली फिल्म गोलमाल : फन अनलिमिटेड जुलाई १४, २००६ को रिलीज़ हुई थी।  दो साल बाद, २९ अक्टूबर २००८ को दूसरा हिस्सा गोलमाल रिटर्न्स रिलीज़ हुआ।  तीसरी गोलमाल ५ नवंबर २०१० को गोलमाल ३ टाइटल के साथ रिलीज़ हुई।  बाद की दोनों फ़िल्में दिवाली वीकेंड पर रिलीज़ हुई और इन फिल्मों ने बॉक्स ऑफिस पर ज़बरदस्त बिज़नेस किया।  गोलमाल सीरीज की फिल्मों की खासियत थी कि इन फिल्मों का पहले की फिल्म से कोई सीधा सम्बन्ध नहीं था।  इस फिल्म में कॉमेडी के साथ हॉरर का भी लिंक है।  यह लिंक क्या है, फिल्म देखने से ही पता चलेगा। ख़ास बात यह है कि सभी गोलमाल फिल्मों के नायक गोपाल की भूमिका अजय देवगन कर रहे थे तथा चारों ही फिल्मों के निर्देशक रोहित शेट्टी थे।  गोलमाल अगेन में अजय देवगन के साथ श्रेयस तलपड़े, अरशद वारसी, कुणाल खेमू और तुषार कपूर अपनी भूमिकाओं में हैं।  नील नितिन मुकेश की नई एंट्री हुई है।  गोलमाल रिटर्न्स और गोलमाल ३ की नायिका करीना कपूर की प्रेग्नन्सी के कारण उनकी जगह परिणीति चोपड़ा ने ले ली हैं।  फिल्म में तब्बू की ख़ास भूमिका है।  फिल्म की पटकथा यूनुस सजवाल ने लिखी है।  संवाद फरहाद साजिद के हैं।  इस फिल्म का ट्रेलर आज ही रिलीज़ हुआ है।  ऊपर इसे देखा जा सकता है।  

रॉकी में संजय दत्त का रोमांस होती नफीसा अली

कल (२१ सितम्बर) से तिग्मांशु धुलिया की गैंगस्टर ड्रामा सीरीज साहब बीवी और गैंस्टर की तीसरी फिल्म साहब बीवी और गैंगस्टर ३ की शूटिंग शुरू हो गई।  इस फिल्म में साहब और बीवी यानि आदित्य प्रताप सिंह और माधवी देवी का किरदार जिमी शेरगिल और माही गिल ही करेंगे।  गैंगस्टर के किरदार में संजय दत्त को लिया गया है।  पिछले दिनों इस फिल्म में संजय दत्त का फर्स्ट लुक जारी किया गया था।  संजय दत्त, रणदीप हुड्डा और इरफ़ान खान के बाद  गैंगस्टर किरदार करने वाली तीसरे अभिनेता हैं।  इस फिल्म में संजय दत्त के पिता और माँ की भूमिका कबीर बेदी और नफीसा अली कर रहे हैं।  कबीर बेदी, इस फिल्म से पहले यलगार में संजय दत्त के पिता का किरदार कर रहे हैं।  जहाँ तक नफीसा अली की बात है, याद जाती है संजय दत्त के करियर की शुरुआत की।  जिस समय सुनील दत्त अपने बेटे संजय दत्त को हीरो बनाने के लिए फिल्म रॉकी की तैयारी कर रहे  थे, उसी दौरान नफीसा अली की पहली फिल्म शशि कपूर के साथ जूनून (१९७९) रिलीज़ हुई थी। वह नफीसा अली के काम से काफी प्रभावित हुए थे ।  इसलिए सुनील दत्त रॉकी के लिए नफीसा अली को लेना चाहते थे।    परन्तु, बात नहीं बन सकी।  इस प्रकार से नफीसा अली संजय दत्त की नायिका बनते बनते रह गई।  आज जब कि संजय दत्त से सिर्फ एक साल बड़ी नफीसा अली फिल्म साहब बीवी और गैंगस्टर ३ में उनकी माँ बनने जा रही है, यह घटना अनायास  याद आ रही है। 

रणबीर कपूर के साथ अलिया भट्ट की दो फ़िल्में !

इस साल की बड़ी फ्लॉप फिल्मों में से एक शाहरुख़ खान और अनुष्का शर्मा की फिल्म जब हैरी मेट सेजल की असफलता को पीछे छोड़ते हुए, फिल्म के निर्देशक इम्तियाज़ अली ने एक बार फिर कमर कस ली है। इस बार वह रॉकस्टार और तमाशा के हीरो रणबीर कपूर के साथ फिल्म बनाएंगे। इम्तियाज़ अली इस फिल्म में रणबीर कपूर की नायिका के लिए आलिया भट्ट को लेना चाहते हैं। इम्तियाज़ अली ने आलिया के साथ फिल्म हाईवे कर रखी है। अगर आलिया और रणबीर जोड़ी बनती है तो यह दूसरी फिल्म होगी, जिसमे आलिया भट्ट और रणबीर कपूर साथ होंगे।  रणबीर कपूर और आलिया भट्ट जोड़ी की पहली फिल्म अयान मुख़र्जी की फिल्म ड्रैगन है। अयान मुख़र्जी की फिल्म की शूटिंग संजय दत्त बायोपिक के पूरी होने के बाद ही शुरू हो सकेगी।  इस बायोपिक में रणबीर कपूर संजय दत्त का रोल कर रहे हैं।  रणबीर कपूर को इस फिल्म के कुछ दृश्य सोनम कपूर के साथ करने हैं। 

Thursday, 21 September 2017

सारा अली खान के इत्ते सारे नखरे !

सारा अली खान बार बार साबित करती जा रही हैं कि वह एक नहीं दो दो बॉलीवुड स्टार्स की बेटी है।  फिल्म केदारनाथ के सेट से जो खबरें हैं, उनके अनुसार सैफ अली खान और अमृता सिंह की बेटी सारा अली खान, जो अभिषेक कपूर की फिल्म केदारनाथ से अपना फिल्म डेब्यू करने जा रही है, के नखरे थमने का नाम ही नहीं ले रहे।  वह फिल्म के सेट पर रोज ही देर से पहुंचती हैं।  वह अपने लुक के प्रति काफी सजग नज़र आती है।  वह अपनी पहली फिल्म में खूबसूरत और प्रभावशाली दिखने के लिए अपने मेकअप और ड्रेस पर ख़ास ध्यान दे रही हैं।  सोर्स बताते हैं कि वह एक बार तैयार होती हैं और फिर अपनी फोटो मोबाइल से उतार कर किसी को भेज देती हैं।  जब उस किसी के पास से मेसेज आता है तो वह उसके अनुसार ही या तो मेकअप-गेटअप फिर बदलती हैं या शूट के लिए पहुंचती हैं।  फिल्म के निर्देशक अभिषेक कपूर ने सारा को समझाने की काफी कोशिशे की, लेकिन कोई फायदा होता नज़र नहीं आता।  हालाँकि, सारा के रवैये से फिल्म डिले होती जा रही है, लेकिन सारा हैं कि वह अपनी मनमर्जी करने पर उतारू हैं।  उत्तराखंड कहानी केदारनाथ के एक मुस्लिम पिट्ठू की है, जो एक हिन्दू तीर्थ-यात्री लड़की के केदारनाथ की मशहूर बाढ़ में फंस जाने पर उसकी जान बचाता है।   इस हादसे के बाद वह  हिन्दू लड़की मुस्लिम पिट्ठू से प्रेम करने लगती है। पीके के बाद सुशांत सिंह राजपूत दूसरी बार मुस्लिम किरदार कर रहे हैं।   

ज़रीना वहाब ने क्यों देखी सिमरन

चितचोर, घरौंदा, सावन को आने दो, तुम्हारे लिए, आदि हिट फिल्मों की नायिका ज़रीना वहाब भी लाजवाब हैं।  पिछले दिनों कंगना रनौत ने अपने तमाम इंटरव्यू में बॉलीवुड के सितारों पर आरोप लगाए थे।  इन बॉलीवुड अभिनेताओं में आदित्य पंचोली भी थे।  आदित्य पंचोली और कंगना रनौत का संक्षिप्त रोमांस काफी चर्चित हुआ था।  सभी जानते हैं कि आदित्य पंचोली इन्ही ज़रीना वहाब के पति हैं।  जब कंगना रनौत ने आदित्य पंचोली पर आरोप लगाए थे, तब ज़रीना वहाब ने बचाव में कहा था कि जब मेरे पति इतने बुरे थे तो वह उनसे डेटिंग क्यों कर रही थी।  बहरहाल, कंगना रनौत पर आरोप लगा कि वह अपनी फिल्म सिमरन के प्रचार के लिए इस प्रकार के हथकंडे अपना रही थी।  इसलिये, जब सिमरन रिलीज़ हुई तब ज़रीना वहाब अपने पति आदित्य पंचोली के साथ पास के थिएटर में  सिमरन देखने गई।  यह टैलेंटेड एक्ट्रेस कंगना के अभिनय से इतनी प्रभावित हुई कि कंगना की प्रशंसा करने से खुद को रोक नहीं सकी।  पत्रकारों के पूछने पर ज़रीना वहाब ने कंगना की प्रशंसा करते हुए कहा," मुझे सिमरन में कंगना का काम बहुत पसंद आया। इतनी अच्छी एक्ट्रेस है।  उसने खुद को बढ़िया अभिनेत्री बना लिया है।  उसने इस सफलता के लिए काफी मेहनत भी की है।" कंगना रनौत के अपने अतीत के पन्ने पलटने की आदत से हैरान ज़रीना वहाब ने कंगना रनौत को सन्देश दिया, "अपने काम पर फोकस करो।  अतीत को पीछे छोड़ दो।" यह निशानी होती है एक वरिष्ठ अभिनेत्री की।  

किरदार कुछ ऐसे बदल जायेंगे !

जॉन अब्राहम स्पेन की पिछले साल रिलीज़ थ्रिलर फिल्म द इनविजिबल गेस्ट का ऑफिसियल रीमेक बनाने जा रहे हैं।  जॉन अब्राहम की फिल्म को रोल रिवर्सल वाली फिल्म बताया जा रहा है।  दरअसल, स्पेनिश फिल्म की कहानी एक सफल उद्यमी की है, जो अपनी महिला मित्र की हत्या के इल्जाम में फंस चुका है।  उसके पास खुद को निर्दोष साबित करने के लिए सिर्फ तीन घंटे हैं। बेहद रोमांचक द इनविजिबल गेस्ट को चीन सहित दुनिया के तमाम देशों में बड़ी सफलता मिली थी।  जॉन अब्राहम के रीमेक में हत्या पुरुष मित्र की होगी।  इस हत्या में उसकी दोस्त फंसेगी।  जॉन अब्राहम उस लड़की को बचाने वाले वकील का किरदार करेंगे।  स्पेनिश फिल्म में यह वकील एक महिला थी। इस फिल्म का निर्देशन नए निर्देशक लक्ष्य करेंगे। देखिये क्या रंग लाता है रोल रिवर्सल ! 

कमल (हासन) खिलाने दक्षिण गए केजरीवाल !

क्या आम आदमी पार्टी उत्तर यानि दिल्ली से सीधे दक्षिण यानि तमिलनाडु की छलांग मारने जा रही है ? आज (२१ सितम्बर को) दिल्ली के मुख्य मंत्री अरविन्द केजरीवाल की अपनी कैबिनेट के साथ कमल हासन से उनके घर मुलाक़ात से तो यही सन्देश दिया जा सकता है। मगर क्या यह आसान होगा ? क्या अरविन्द केजरीवाल को अपनी पकड़ दिखाने के लिए सीधे दक्षिण के राज्य की ज़रुरत है ? आदमी पार्टी को अपनी पोजीशन बनाने के लिए दक्षिण के किसी राज्य की नहीं, आने वाले चुनाव में किसी राज्य में अपना प्रभाव दिखाने की है। क्योंकि, यह पार्टी पंजाब और गोवा में बुरी तरह मार खा चुकी है। आम आदमी पार्टी के लोग कह सकते हैं कि जी हमें तो कमल हासन ने बुलाया था कि हम वहाँ जा कर कमल (हासन) का कमल खिला दें। लेकिन, यह तभी होगा, जब कमल हासन चुनाव लड़ें। कमल हासन चुनाव लड़ेंगे तो अपनी नई पार्टी बना कर लड़ेंगे। वह दक्षिण के लोगों के दिमाग में यह नहीं बैठाना चाहेंगे कि उत्तर वालों का हमला करवा कर कमल हासन तमिलनाडु के चुनाव जीतना चाहते हैं। इसलिए वह आम आदमी पार्टी का साथ बहुत सोच समझ कर ही लेंगे। बिग बॉस के तमिल संस्करण में सलमान खान वाली ज़िम्मेदारी निभा रहे कमल हासन इस कार्यक्रम से कितनी लोकप्रियता हासिल कर सकें हैं, इस पर भी काफी कुछ निर्भर करेगा। वह जब तब राजनीतिक कटाक्ष करके भी अपने राजनीतिक इरादे जताते रहते हैं। लेकिन, सबसे बड़ी बात यह है कि रजनीकांत चुनाव लड़ेंगे या नहीं? अगर रजनीकांत चुनाव लड़ते हैं तो कमल हासन के लिए राह कठिन से कठिनतर हो जाएगी। कमल हासन मूल रूप से तमिल हैं। इसके बावजूद उनसे काफी ज्यादा लोकप्रियता गैर तमिल एक्टर रजनीकांत की है। अगर रजनीकांत चुनाव लड़ते हैं तो कमल हासन को कोई आम आदमी पार्टी भी सहारा नहीं दे पायेगी। वैसे रजनीकांत के चुनाव लड़ने की दशा में भारतीय जनता पार्टी उनकी बगलगीर पार्टी होगी। तमिलनाडु में विधान सभा चुनाव काफी दूर हैं। अलबत्ता, कवायद २०१९ के लोकसभा चुनाव के लिए हो सकती है। मगर उसके लिए आम आदमी पार्टी को दिल्ली में अपना किला मज़बूत हुआ दिखाना होगा। क्या वह विधान सभा चुनाव वाला करिश्मा दोहरा पाएंगे?

दिल्ली के मुख्य मंत्री अरविन्द केजरीवाल के साथ कमल हासन


Wednesday, 20 September 2017

शोख अदाकारा शकीला का देहांत

साठ के दशक में अपनी शोख अदाओं और नशीली आँखों से दर्शकों को दीवाना बना देने वाली एक्ट्रेस शकीला का हृदयगति रुकने से देहांत हो गया।  वह ८२ साल की थी।  अफगानिस्तान और ईरान के शाही खानदान से ताल्लुक रखने वाली शकीला के दादा-परदादा तख्तोताज की लड़ाई में जान से हाथ दो बैठे थे ।  अब्बा हुज़ूर उन्हें अपनी दो दूसरी बेटियों और बहन के साथ लेकर मुंबई आ गए।  लेकिन, जल्द ही पिता का देहांत हो गया। परिवार के सामने समस्याएं मुंह बाए खडी थी।  बुआ की जिस शख्स से शादी होने  वाली थी, वह एक दुर्घटना में मारा गया।  इसके बाद बुआ ने कभी शादी न कर अपनी तीनों भतीजियों का पालन पोषण करने का निश्चय किया।  ए आर कारदार और महबूब खान पारिवारिक मित्र थे।  बुआ अपनी भतीजियों को लेकर उनके पास गई। कारदार ने शकीला को अपनी फिल्म दास्तान (१९४९) में अभिनेत्री वीणा के बचपन की भूमिका सौंप दी।  इस फिल्म में सुरैया, देव आनंद और सुरेश भी अभिनय कर रहे थे।  शकीला को हिंदी फिल्मों की शोख नायिका बनाया गुरु दत्त की फिल्म आर पार ने।  फिल्म का बाबूजी धीरे चलना ब्लॉकबस्टर हिट हुआ।  इस फिल्म में शकीला की बहन नूर (नूरजहां) ने भी अभिनय किया था।  नूर ने बाद में जॉनी वॉकर से शादी कर फिल्मों को अलविदा कह दिया।  गुरुदत्त ने शकीला को फिल्म सीआईडी में रिपीट किया था। लेकिन, उनको वहीदा रहमान के कारण उतना नोटिस नहीं किया गया।  शकीला ने उस समय के बड़े डायरेक्टर ए आर कारदार, महबूब खान और गुरु दत्त की फिल्मों में अभिनय किया।  शकीला ने अपने करियर की पचास फिल्मों में गुरुदत्त, चन्द्रशेखर, शम्मी कपूर, मनोज कुमार, राज कपूर, देव आनंद, सुनील दत्त, प्रदीप कुमार, जयराज, विजय आनंद और जॉनी वॉकर जैसे टॉप एक्टर्स के साथ फ़िल्में की।  १९६३ में शकीला ने शादी कर फिल्मों को अलविदा कह दिया।  वह यूके में सेटल हो गई।  लेकिन, बेटी की मृत्यु ने शकीला को बुरी तरह से अकेला कर दिया।  शकीला पर फिल्माए गए बार बार देखो हजार बार देखो, आँखों ही आंखों में इशारा हो गया, नींद न मुझको आये दिल मेरा तडपाये, लागि छूटे न अब तो सनम, ऐ मेरे दिलेनादाँ तू गम न कर, लेके पहला पहला  प्यार, सौ बार जनम लेंगे, आदि गीत आज भी सदाबहार और दर्शकों के पसंदीदा हैं।  उन्हें श्रद्धांजलि।

राजेंद्र कांडपाल  

पद्मावती के पोस्टर हुए रिलीज़

नवरात्री के पहले दिन संजयलीला भंसाली ने १ दिसंबर को रिलीज़ होने जा रही ऐतिहासक गाथा पद्मावती का फर्स्ट लुक पोस्टर रिलीज़ किया। यह पोस्टर दीपिका पादुकोण के पद्मावती रूप के हैं।  निर्माताओं का दावा है कि दीपिका पादुकोण की मिली हुई भौंहें उन्हें देसी लुक देती है।  लेकिन, पोस्टरों में दीपिका पादुकोण सजी-धजी मॉडर्न महिला ज़्यादा लग रही हैं।  वैसे अच्छी बात यह है कि भंसाली ने इस फिल्म का हिंदी पोस्टर भी रिलीज़ किया है।  खबर है कि पद्मावती १ दिसंबर २०१७ को ८००० प्रिंट्स में रिलीज़ होगी।  ज़बरदस्त ओपनिंग की पूरी पूरी संभावनाएं हैं।

नानू की जानू का पोस्टर

आज फिल्म नानू की जानू का पोस्टर रिलीज़ किया गया।  यह एक प्रकार से फिल्म के बनाये जाने का ऐलान है।  अभी इस फिल्म की कास्ट पूरी तरह से तय नहीं है।  कुछ समय पहले अभय देओल को लिए जाने का ऐलान हुआ था।  बाद में फिल्म में पत्रलेखा को शामिल किया गया।  इस फिल्म का निर्देशन फ़राज़ हैदर कर रहे हैं।  फ़राज़ एक्टर-डायरेक्टर है।  उन्होंने शार्ट फिल्म द बिगिनिंग के अलावा दो फिल्मों ओये लकी लकी ओये और वॉर छोड़ न यार में अभिनय किया है।  वॉर छोड़ न यार के निर्देशक फ़राज़ हैदर ही थे।  फिल्म के पोस्टर से नानू की जानू आत्मा फिल्म लगती है।  शायद यह नानू की आत्मा की कहानी है। फिल्म अगले साल अप्रैल में रिलीज़ होगी।  

कैटरीन कैफ के इन्स्टाग्राम पर सबसे तेज़ ५० लाख फॉलोवर्स

सोशल मिडीया पर लोकप्रिय रहें नामों में अभिनेत्री कैटरीना कैफ का नाम सबसे आगे है । लंबे समय से सोशल मिडीया से दूर रहने के बावजुद कैटरीना कैफ के सोशल मिडीया फोलोवर्स की तादाद काफी ज्यादा हैं। कैटरीना कैफ ने सबसे पहले फेसबुक पर जॉइन की । फिर वह इन्स्टाग्राम पर आयीं। इन्स्टाग्राम पर आने के चार महीने और सात दिनों में हीं, उनके फोलोवर्स का आंकडा पचास लाख पार कर गया है। अपने समकालीनों की तुलना में इतने कम समय में इतने ज्यादा फॉलोवर्स पाने वाली कैटरीना कैफ इकलौती अभिनेत्री हैं। अपने शानदार फोटो, मजाकियां कैप्शन्स और बेहतरीन पब्लिक अपिअरन्स के ज़रिये, कैटरीना कैफ का इन्स्टाग्राम अकाउंट काफी मनोरंजक बना हुआ हैं। कैटरीना कैफ कहतीं है, “मुझे काफी मजा आ रहा हैं। मै अपनें इन्स्टाग्राम फोलोवर्स के साथ अपनें कुछ खास पलों को शेअर करतीं हूँ। मेरे मन की बात सांझा करने का यह मंच मुझे काफी अच्छा लगता हैं। यह जैसे मेरा व्यक्तिगत प्रतिबिंब हो। मुझे जो पसंद है मै वो करती हूँ।“ 

हनीप्रीत बनेगी राखी सावंत

कुछ लोग मौके की तलाश में रहते हैं।  कोई विवाद या कांड हुआ नहीं कि ऐसे लोग उसका फायदा उठाने लगते हैं।  ख़ास तौर पर बॉलीवुड के लोग इसमे सबसे आगे हैं।  इनमे भी राखी सावंत का कोई जवाब नहीं। उनके एक भाई हैं राकेश सावंत।  उन्होंने अब तक पांच फ़िल्में डायरेक्ट की हैं।  पाँचों बेतरह फ्लॉप।  उनकी फिल्मों में राजेश खन्ना तक काम कर लिया करते थे।  हालाँकि, राकेश सावंत निर्देशित फिल्म वफ़ा ने राजेश खन्ना की बनी बनाई इज्ज़त का बड़ा गर्क कर दिया था।  अब यही राखी सावंत के भाई राकेश सावंत राम रहीम पर फिल्म बनाने जा रहे हैं।  फिल्म का नाम अब होगा इन्साफ (सिनेमा स्कैंडल) होगा।  इस फिल्म में राम रहीम की भूमिका राजा मुराद और हनीप्रीत सिंह का किरदार खुद राखी सावंत कर रही हैं।  फिल्म में एजाज़ खान नाम का कोई एक्टर जांच दल का मुखिया बना है।  लेकिन, फिल्म में उसे  राखी सावंत और रजा मुराद के किरदारों के साथ डांस करते दिखाया गया है।  अब देखने की बात होगी कि राकेश सावंत बाबा राम रहीम की इज्ज़त का कबाड़ा करते हैं या रज़ा मुराद की इज्ज़त का फालूदा करते हैं।  

श्वेता त्रिपाठी बनाएंगी फिल्म

श्वेता त्रिपाठी अब फिल्म बनाएंगी।  श्वेता त्रिपाठी के परिचय में कहा जा सकता है कि उन्होंने टीवी सीरीज क्या लाइफ है मस्त, फिल्म मसान और हरामखोर में काम किया है।  टीवी सीरीज का कोई ज़िक्र नहीं करता।  मसान की पूरी प्रशंसा ऋचा चड्डा बटोर ले गई।  हरामखोर के लिए नवाज़ुद्दीन सिद्दीक़ी को याद किया जाता है। श्वेता त्रिपाठी को इन फिल्मों से कुछ हाथ नहीं लगा। कहने को वह अनुराग कश्यप की फिल्म ज़ू में काम कर रही हैं।  लेकिन, क्या कर रही हैं, यह किसी को नहीं मालूम।  इसलिए एक आईएएस ऑफिस की यह संतान अब फिल्म बनाने जा रही है। जब निर्माता बनने के बारे में उनसे पूछा गया तो उन्होंने कहा, ‘मेरे एक डायरेक्टर दोस्त ने मुझे सलाह दी कि जो प्रस्ताव अभी मिल रहे हैंअगर मैं उनसे संतुष्ट नहीं हूँ, तो क्यों नहीं मैं अपनी स्क्रिप्ट पर काम करूं। पहले तो मैंने इसे मज़ाक में उड़ा दिया। लेकिन फ़िर मुझे अहसास हुआ कि शायद काम अपने हाथों में वाँ लेने का मौका आ गया है। मुझे कोशिश करनी चाहिए। शायद सफ़लता हासिल हो ही जाएगी।’ शुभकामनायें श्वेता ! 

परमाणु : द स्टोरी ऑफ़ पोखरण के पोस्टर

परमाणु १९९८ में पोखरण में हुए पांच बम विस्फोट की कहानी है। इन विस्फोटों के बाद अमेरिका ने भारत पर आर्थिक प्रतिबन्ध लगा दिए थे।  इस फिल्म में जॉन अब्राहम और डायना पेंटी सैन्य अधिकारी की भूमिका में हैं।
फिल्म के निर्देशक अभिषेक शर्मा है।  यह फिल्म ८ दिसंबर को रिलीज़ होगी।  

जुम्बा वियर का विज्ञापन कर रही हैं बिपाशा बासु


क्या चुक गए हैं बॉलीवुड के स्टार चेहरे ?

इस साल के शुरू में निर्देशक इक़बाल सुलेमान की एक ड्रामा फिल्म आमिर सलमान शाहरुख़ रिलीज़ हुई थी। बॉलीवुड के तीन बड़े सितारों के नामों से बने टाइटल वाली इस फिल्म में बिलकुल नए चेहरे थे।  यह फिल्म ज़्यादातर जगहों पर रिलीज़ ही नहीं हो पाई।  जहाँ भी रिलीज़ हुई वहाँ के बॉक्स ऑफिस आंकड़े बेहद निराशाजनक थे।  फिल्म कुछ हजार में ही सिमट गई।  इस फिल्म को फ्लॉप होना ही था।  लेकिन, साल के पहले शुक्रवार रिलीज़ फिल्म का टाइटल कोई इशारा करता लग रहा था।  यह इशारा था कि बॉलीवुड के तीन सुपर स्टार सलमान खान, आमिर खान और शाहरुख़ खान या कहिये सभी बड़े अभिनेताओं का सितारा अस्त होने जा रहा है।
बॉक्स ऑफिस के बादशाह को झटका
तीन हफ्ते बाद ही पहला इशारा मिल गया।  २५ जनवरी को यानि गणतंत्र दिवस के उपजाऊ वीकेंड में दो बड़ी फ़िल्में हृथिक रोशन की फिल्म काबिल और शाहरुख खान की फिल्म रईस रिलीज़ हुई थी।  अमूमन इस वीकेंड में रिलीज़ फ़िल्में ज़बरदस्त बिज़नेस करती हैं।  इसलिए, कहा जा सकता है कि शाहरुख़ खान ने खुद काबिल से टकराने का मौक़ा पैदा कर दिया था।  बॉलीवुड के दो बड़े सितारों की फिल्मों पर तमाम निगाहें लगी हुई थी।  इनके प्रशंसक दर्शक इस टकराव को दिलचस्पी से देख रहे थे।  इन दोनों ही फिल्मों ने १०० करोड़ क्लब में शामिल होने का सम्मान पाया।  लेकिन, नुकसान दोनों ही  फिल्मों को हुआ।  रईस का बजट ६५ करोड़ का था।  फिल्म के प्रिंट्स और प्रचार में २० करोड़ खर्च हुए।  रईस ने बॉक्स ऑफिस पर १२९ करोड़ का नेट किया।  साफ़ तौर पर बजट और शाहरुख़ खान के कद के लिहाज़ से इतनी कमाई फिल्म को औसत ही साबित करती थी।  इसी तरह से काबिल के निर्माण में ५० करोड़ खर्च हुए थे।  इस फिल्म का १०३ करोड़ का नेट, इसे हिट फिल्मों में शुमार नहीं करता था।  साफ़ तौर पर २०१७ के पहले हफ्ते में ही बॉलीवुड के दो बड़े सितारों को बड़ा झटका लगा था।
अमिताभ बच्चन और आयुष्मान खुराना ९-९ करोड़
बॉक्स ऑफिस के अगले शिकार हुए अमिताभ बच्चन।  इंडस्ट्री के मेगा स्टार, वन मैन इंडस्ट्री, आदि न जाने कितनी उपाधियों से नवाज़े जाने वाले अमिताभ बच्चन की १२ मई को फिल्म सरकार ३ मई रिलीज़ हुई थी।रामगोपाल वर्मा और अमिताभ बच्चन की निर्देशक-अभिनेता की हिट सरकार फ्रैंचाइज़ी ने बॉक्स ऑफिस पर हमेशा ही उम्दा बिज़नेस किया था।  इसलिए, सरकार ३ के भी बढ़िया बिज़नेस की उम्मीद थी।  इस फिल्म के निर्माण में ३५ करोड़ खर्च हुए थे।  मगर, सरकार ३ ने बॉक्स ऑफिस पर केवल ९.२५ करोड़ का निराशाजनक बिज़नेस किया था।  दिलचस्प तथ्य यह था कि १२ मई को ही आयुष्मान खुराना और परिणीति चोपड़ा की फिल्म मेरी प्यारी बिंदु भी रिलीज़ हुई थी।  इस फिल्म का बिज़नेस भी अमिताभ बच्चन की फिल्म सरकार ३ का  बिज़नेस के बराबर हुआ।  इसके बावजूद सरकार ३ जहाँ फ्लॉप साबित हुई, वही मेरी प्यारी बिंदु को अमिताभ बच्चन की फिल्म के बराबर बिज़नेस करने का संतोष मिला।
बॉक्स ऑफिस पर ट्यूबलाइट साबित हुए सलमान खान
आम तौर पर सलमान खान की फिल्मों को ईदी ज़बरदस्त मिलती है।  २०१७ से पहले तक रिलीज़ सलमान खान की फिल्मों का रिकॉर्ड तो यही बताता है।  इसलिये, सलमान खान की कबीर खान निर्देशित फिल्म ट्यूबलाइट का हॉलिडे क्राउड द्वारा बेसब्री से इंतज़ार इंतज़ार किया जा रहा था।  इस फिल्म के  निर्माण में १०० करोड़ खर्च हो गए थे।  कबीर खान और सलमान खान जोड़ी ने एक था टाइगर और बजरंगी भाईजान जैसी सुपर डूपर हिट फ़िल्में दी हैं।  इसलिए ट्यूबलाइट की सफलता पर सन्देह का कोई कारण नज़र नहीं आ रहा था।  लेकिन, बॉक्स ऑफिस ने तेवर दिखाए।  ईद वीकेंड किसी काम न आया।  सलमान खान की फिल्म अपना कलेक्शन बमुश्किल तमाम १०० करोड़ से ऊपर रख सकी।  इस फिल्म को नुक्सान का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि सलमान खान को इस फिल्म के डिस्ट्रीब्यूटर के घाटे की भरपाई करनी पड़ी ।
जब इंडिपेंडेंस वीकेंड नहीं मिला खान को
ट्यूबलाइट से जुड़ा एक दिलचस्प तथ्य।  ट्यूबलाइट में शाहरुख़ खान का कैमिया अपीयरेंस था।  यह कैमिया भी फिल्म को ले डूबा।  शाहरुख़ खान की फिल्म को तो उनका तीसरा अपीयरेंस भी ले डूबा।  शाहरुख़ खान की बतौर नायक साल की दूसरी फिल्म जब हैरी मेट सेजल ४ अगस्त को रिलीज़ हुई।  शाहरुख़ खान ने अपनी फिल्म को इंडिपेंडेंस वीकेंड का फायदा उठाने के लिए रिलीज़ किया था।  इस वीकेंड यानि ११ अगस्त को अक्षय कुमार की फिल्म टॉयलेट एक प्रेम कथा की रिलीज़ तय थी।  शाहरुख़ खान को ऐसा लगता था कि अक्षय कुमार घबरा कर अपनी फिल्म की रिलीज़ की तारीख आगे बढ़ा लेंगे।  लेकिन, वन्स अपॉन अ टाइम इन मुंबई दुबारा से शाहरुख़ खान से चोट खाये अक्षय कुमार ने फिल्म की  तारीख बदलने से इंकार कर दिया।  नतीजतन शाहरुख़ खान की फिल्म जब हैरी मेट सेजल ४ अगस्त को रिलीज़ हुई।  शाहरुख़ खान सोचते थे कि उनकी फिल्म पहले रिलीज़ हो कर बड़ी हिट होगी और अक्षय कुमार की फिल्म को नुकसान पहुंचाएगी।  मगर, जब हैरी मेट सेजल बुरी तरह से असफल हुई।  फिल्म के वितरक ने शाहरुख़ खान से अपनी फिल्म को हुए घाटे की भरपाई के लिए दबाव बनाना शुरू का दिया।
बज रही है खतरे की घंटी
बॉलीवुड के सुपर सितारों की बजी पड़ी है।  सलमान खान ट्यूबलाइट और शाहरुख़ खान रईस और जब हैरी मेट सेजल जैसी उनकी प्रतिष्ठा के विरुद्ध फ़िल्में दे चुके हैं।  आमिर खान अभी तक अजेय अभिनेता साबित होते रहे हैं। इस साल आमिर खान की बतौर नायक कोई भी फिल्म रिलीज़ नहीं हुई है।  उनकी पहली परीक्षा १९ अक्टूबर को रिलीज़ हो रही फ़िल्म सीक्रेट सुपरस्टार से होगी।  यह म्यूजिकल फिल्म एक टीनएजर के इर्दगिर्द घूमती है, जो संगीत में अपना करियर बनाना चाहती है।  निर्माता आमिर खान की इस फिल्म में दंगल गर्ल जायरा वसीम मुख्य किरदार कर रही हैं।  फिल्म में आमिर खान का करैक्टर जायरा की मदद करता है।  सीक्रेट सुपर स्टार दीवाली वीकेंड में रिलीज़ हो रही है।  इसलिए, आमिर खान की फिल्म को बढ़िया बिज़नेस करना ही होगा। लेकिन, उनके आड़े आ रहे हैं अजय देवगन।  उनकी गोलमाल फ्रैंचाइज़ी की फिल्म  गोलमाल अगेन दीवाली वीकेंड पर ही रिलीज़ हो रही है।  इस फिल्म से आमिर खान को कठिन चुनौती मिलेगी।
वंडर वुमन से पिटी बेवॉच प्रियंका चोपड़ा
२ जून को बॉक्स ऑफिस पर दिलचस्प नज़ारा था।  टीवी सीरीज क्वांटिको के बाद प्रियंका चोपड़ा की पहली हॉलीवुड फिल्म बेवॉच रिलीज़ हो रही थी।  आम तौर पर हॉलीवुड की फिल्मों में एशिया  के किसी देश के कलाकार को मार्किट में फायदे के लिहाज़ से लिया जाता है।  ड्वेन 'द डॉक जॉनसन की समुद्र के किनारे घूमने वाले लाइफ गार्ड पर फिल्म बेवॉच में प्रियंका चोपड़ा ने तो फिल्म की मुख्य विलेन का किरदार किया था।  उन्होंने फिल्म में अपनी सेक्सी इमेज को धार देने की भरपूर कोशिश की थी।  ड्वेन जॉनसन को उम्मीद थी कि हिंदुस्तान के बॉक्स ऑफिस पर प्रियंका चोपड़ा फिल्म को हिट बना  देंगी।  लेकिन, पूरी दुनिया की तरह बेवॉच हिंदुस्तान में औंधे मुंह गिरी।  इस फिल्म ने महज ७.९० करोड़ का बिज़नेस किया।  बेवॉच ड्वेन जॉनसन की फिल्म थी।  इसलिए प्रियंका चोपड़ा की कद को आंच नहीं आनी चाहिए थी।  लेकिन, ऐसा हुआ वंडर वुमन के कारण।  हॉलीवुड की पहली वीमेन सुपर हीरो  फिल्म वंडर वुमन ने हिंदुस्तान में तहलका मचा दिया। इसरायली अभिनेत्री गाल गैडोट सुपर हीरो भूमिका वाली फिल्म वंडर वुमन ने भारतीय बॉक्स ऑफिस पर १६.५० करोड़ का बिज़नेस कर जाता दिया कि प्रियंका चोपड़ा क्या किसी भी बॉलीवुड स्टार में इतना दम नहीं कि वह खुद के बूते किसी हॉलीवुड फिल्म को हिट बना दे।
दीवाली वीकेंड में क्या होगा ! क्या शाहरुख़, सलमान और आमिर का सितारा अस्त होने को है? शाहरुख़ खान का स्टारडम खतरे में है।  रईस और जब हैरी मेट सेजल के बाद यह तय हो गया है। क्या आनंद एल राज की फिल्म उन्हें बचा पाएगी ? सलमान खान ट्यूबलाइट जैसी बड़ी फ्लॉप फिल्म दे ही चुके हैं।  उनकी सुपर हिट फिल्म एक था टाइगर की सीक्वल टाइगर ज़िंदा है २२ दिसंबर यानि क्रिसमस वीकेंड पर रिलीज़ हो रही है।  इस फिल्म का बॉक्स ऑफिस रिजल्ट सलमान खान का भविष्य तय कर देगा।  लेकिन, उससे पहले सीक्रेट सुपर स्टार आमिर खान को बॉक्स ऑफिस पर दंगल लड़ने को मज़बूर कर रहा है।